चेन्नई में तेरापंथ महिला मंडल के द्वारा द पॉवर शिल्पशाला कार्यशाला का आयोजन

साहुकारपेट, चेन्नई । अखिल भारतीय तेरापंथ महिला मंडल के निर्देशानुसार तेरापंथ महिला मंडल, चेन्नई के तत्वावधान में द पॉवर शिल्पशाला कार्यशाला का आयोजन हुआ।
कार्यशाला का शुभारंभ सामूहिक नमस्कार महामंत्र से हुआ। नारी लोक का वाचन अध्यक्षा पुष्पा हिरण ने किया। प्रेरणा गीत का संगान महिला मंडल बहनों द्वारा हुआ। श्रावक निष्ठा पत्र का वाचन सहमंत्री कंचन भंडारी ने किया। अध्यक्षा पुष्पा हिरण ने सभी का स्वागत करते हुए सकारात्मक एवं नकारात्मक दृष्टिकोण के विषय पर अपने विचार व्यक्त किए। कार्यक्रम में मुख्य वक्ता के रूप में उपासक श्रीमान् संतोषजी रांका को आमंत्रित किया गया।

जहां-जहां अहंकार, वहां-वहां दुविधाएँ

मुख्य वक्ता उपासक श्रीमान संतोषजी रांका ने “द पॉवर ऑफ पॉजिटिविटी” विषय पर बहुत ही मार्मिक एवं सारगर्भित वक्तव्य में सकारात्मक एवं नकारात्मक विषय पर प्रकाश डालते हुए अपने विचार की अभिव्यक्ति में कहा कि जो चीजें हमें डिस्टर्ब करती है, वह नेगेटिव है, मिथ्या ज्ञान है। हर परिस्थिति को स्वीकार करने के लिए हमेशा तैयार रहना चाहिए। सकारात्मक दृष्टिकोण का विकास कैसे हो, इस विषय पर अनेक उदाहरण के माध्यम से समझाया। जहां-जहां अहंकार होगा, वहां व्यक्ति अड़ेगा और दुविधा पैदा होगी। जो विचार हमें तकलीफ देते हैं, डिस्टर्ब करते हैं, वह हिंसा है, उसी को नेगेटिविटी कहा गया है। अहंकार विलय के लिए जैन धर्म के अनेक प्रयोग बताए।
कार्यक्रम का संचालन मंत्री रीमा सिंघवी ने किया। धन्यवाद ज्ञापन सहमंत्री लता पारख ने दिया। इस अवसर पर परामर्शक सूरजजी मुथा, पदाधिकारीगण एवं कार्यसमिति सदस्य का सहयोग रहा।
समाचार सम्प्रेषक : स्वरूप चन्द दाँती

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *