तेरापंथी सभा बेंगलुरु का शपथ ग्रहण समारोह संपन्न

0
78

बेंगलुरु-गांधीनगर। महातपस्वी आचार्य श्री महाश्रमणजी की प्रबुद्ध शिष्या साध्वी श्री आणिमाश्रीजी के सानिध्य में गांधीनगर, तेरापंथ भवन के सुरम्य प्रांगण में बेंगलुरू जैन श्वेताम्बर तेरापंथी सभा की नवमनोनित कार्यकारिणी का शपथ ग्रहण समारोह आयोजित हुआ। इस गरिमामय कार्यक्रम में बेंगलोर की विभिन्न सभा संस्थाओं के पदाधिकारी एवं वरिष्ठ कार्यकर्ता उपस्थित हुए। तेरापंथ सभा के निवर्तमान अध्य्क्ष मूलचन्द नाहर ने वरिष्ठ कार्यकता सुरेश दक को सभा के अध्यक्ष पद की शपथ दिलाई एवं संकल्प-पत्र का वाचन किया। पूरी परिषद ने ओम अर्हम की हर्ष ध्वनि के साथ नवमनोनित अध्यक्ष सुरेश दक का अभिनन्दन एवं अभिवादन किया। सुरेशजी दक ने अपनी टीम के पदाधिकारी एवं कार्यकरिणी के सदस्यों के नाम की घोषणा करते हुए उनको पद एवं गोपनीयता की शपथ दिलाई एवं संकल्प पत्र का वाचन किया।
साध्वी श्री आणिमाश्रीजी ने अपने प्रेरणादायी उद्बोधन में कहा हम सौभाग्यशाली है कि हमें मर्यादित, अनुशाषित एवं प्राणवान धर्मसंघ मिला है। संघ के गौरव को शतगुणित करने में सभा संस्थाओं का भी महत्त्वपूर्ण योगदान रहा है। बेंगलोर तेरापंथी सभा ने संघ विकास में नए पदचिन्ह अंकित किये है। सभा के पूर्वाध्यक्षो ने अपने चिंतन, विजन एवं कार्यशैली तथा सक्षम नेतृत्त्व से सभा की महिमा में चारचाँद लगाए है। निवर्तमान अध्यक्ष मूलचन्द नाहर एवं मंत्री प्रकाश लोढा की जोड़ी तथा टीम ने अच्छा काम किया है। पूज्यश्री के चातुर्मास में काम करने का अवसर उपलब्ध हुआ। सफल कार्यकाल की बधाई के साथ आपका कार्यकौशल बढ़ता रहे एवं संघ और समाज का कार्य करते रहे।
साध्वी श्री ने आगे कहा अब भी सुरेश दक को सभा के अध्य्क्ष पद का दायित्त्व मिला है। उपस्थित जन आपके यशस्वी कार्यकाल की बधाई दे रहे है। यशस्वी कार्यकाल बने इसके लिए जरूरी है हृदय की विशालता, वाणी की मधुरता, प्रेम। ये ऐसे गुण है जो आपके कार्यकाल को यशस्वी बना सकते है। अपनी पूरी टीम की सकारात्मक सहयोग से सभा के पुराने सारे कार्यक्रमो को सुघड़ता से संपादित करते हुए अपनी कर्तुत्व-शक्ति से नए पदचिन्ह अंकित करे, छोटी लाईन को बड़ी बनाने का प्रयास करे। संघ-संघपति के प्रति सर्वात्मना सर्मपित रहते हुए बंगलोर में प्रवासित साधु-साध्वियों की दृष्टि की आराधना करे। अध्यक्ष सुरेश दक महामंत्री नवनीत मुथा सहित समस्त पदाधिकारी एवं कार्यकारिणी के आध्यात्मिक उन्नयन की मंगलकामना।
साध्वी सुधाप्रभाजी ने अपने व्यक्तव्य में कहा सुरेश जी! आपको अपने टीम के साथ दो वर्ष तक सभा में काम करने का स्वर्णिम अवसर प्राप्त हुआ है। आप समय के भाल पर सृजन के नए हस्ताक्षर करना। संघ व सभा की पोथी पर पुरुषार्थ की कलम लेकर कर्तुत्व की स्याही से टीम के सहयोग से स्वर्णिम पृष्ठ लिखना। आपका यशस्वी कार्यकाल आनेवालों के लिए मिशाल बन जाए।
तेरापंथ ट्रस्ट के अध्य्क्ष गौतम मुथा, महासभा के सहमंत्री प्रकाश लोढा, निवर्तमान अध्यक्ष मूलचन्द नाहर, अणुव्रत समिति के अध्यक्ष कन्हैयालाल चिप्पड़, महिला मंडल अध्यक्षा शांति सकलेचा, तेयुप अध्यक्ष विनोद मुथा, पारमार्षिक शिक्षण संस्था के अध्यक्ष बजरंग जैन, ज्ञानशाला से माणकचन्द संचेती, यशवंतपुर सभाध्यक्ष विमल किशोर पितलिया, आर-आर नगर सभाध्यक्ष कमल दुग्गड़, राजाजिनगर सभाध्यक्ष शांतिलाल पितलिया तुलसी महाप्रज्ञ चेतना केन्द्र से शांतिलाल पितलिया, भिक्षु भारतीय संस्थान से ललित आच्छा ने नवमनोनित अध्यक्ष एवं उनकी पूरी टीम को शुभकामना संप्रेषित की।
कार्यक्रम का कुशल संचालन सभा के पूर्व मंत्री प्रकाश लोढा एवं नव मनोनीत मंत्री नवनीत मुथा ने प्रभावी ढंग एवं समयबद्धता के साथ किया।
आभार ज्ञापन उपाध्यक्ष कैलाश बोराणा ने किया।
सभाध्यक्ष सुरेश दक ने अपनी टीम में उपाध्यक्ष के रूप में अभयराज कोठारी, कैलाश बोराणा, महावीर धोका, नवनीत मुथा, कोषाध्यक्ष बाबूलाल बाफना, सहमंत्री दीपक गोठी सत्येंद्र जैन एवं संगठन मंत्री के रूप में संपत चावत के नाम की घोषणा की तथा सुरेश दक ने अपने भावपूर्ण विचार व्यक्त करते हुए सभा के गौरव व सम्मान को बढाने की बात कही।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here