आकंठ भ्रष्टाचार मे डुबे परिवार को ही खाद्यान्न वितरण की दुकान देने पर तुले गौर ब्लाक के अधिकारी

गौर, बस्ती उत्तर प्रदेश:- मामला ग्राम पंचायत आमाभुईलापार का सन् 2014 तक कोटा अनुसूचित जाति के रामरुप के पास था ,रामरुप के मृत्यु के बाद यह कोटा उनकी विधवा पतोहू के नाम किया गया ,किंतु भ्रष्टाचारियो द्वारा यह कि अनुराग श्रीवास्तव को अनुराग कुमार बना करके अनुराग कुमार के नाम अनुसूचित जाति के रुप मे चयन हो गया 2018 ,19 मे रामप्रताप यादव के द्वारा विरोध किये जाने पर निलंबित हुआ और ले देकर फिर अनुराग के नाम हो गया ,पुनः 2021 मे कोटा अनुराग के नाम हुआ अनियमितता पाये जाने पर निरस्त किया गया बाद मे अनुराग की मृत्यु हो गयी ,अब अधिकारी द्वारा सारे नियम ताक पर रख कर उसी भ्रष्टाचारियो के परिवार को कोटा देना चाहते है, रीना श्रीवास्तव द्वारा मा. मुख्यमंत्री से मिलकर प्रार्थना पत्र दिया गया किन्तु अधिकारी कन्नी काट रहे है। उक्त कोटेदार की मां किरनबाला श्रीवास्तव आगनबाड़ी कार्यकत्री है जिनकी जन्मतिथि 1971 है एवं इनकी बड़ी पुत्री अनुराधा रानी श्रीवास्तव की उम्र जन्मतिथि 1976 दर्ज है ,क्या पांच वर्ष की अबोध बालिका की पुत्री हो सकती है ,रमेशचंद्र श्रीवास्तव के द्वारा जिला विद्यालय निरीक्षक से सूचना मागी गयी है ,किन्तु अभी तक कोई कार्यवाही नही हुई ,यही नही अविनाश कुमार श्रीवास्तव ही घर के मालिक है जिनका जन्मतिथि 1980 है ,किंतु स्वयं इनके द्वारा 1990 दर्ज कराया गया है। इसकी पुष्टि होनी चाहिए क्या बाल विकास विभाग द्रारा किरन बाला पर कार्यवाही की जायेगी या फिर अधिकारी मौन रहेगें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *