अखिल भारतीय तेरापंथ महिला मंडल का 43वां राष्ट्रीय अधिवेशन ” संकल्प ” का

0
181

चैन्नई। माधावरम् चैन्नई की पुण्य धरा पर तेरापंथ धर्म संघ के ग्यारहवें आचार्य महामनस्वी महातपस्वी आचार्य श्री महाश्रमणजी के पावन सन्निधि में हुआ । अभातेममं के राष्ट्रीय अधिवेशन का आगाज कर्तृत्व की कलम से विकास के स्वस्तिक रचने वाली राष्ट्रीय अध्यक्षा श्रीमती कुमुद कच्छारा के नेतृत्व में सफलतापूर्वक संपन्न हुआ । सुदूर क्षेत्रों से पधारीं केसरिया परिधान में सजी बहनों ने चीफ ट्रस्टी श्रीमती सायर बेंगाणी ,राष्ट्रीय अध्यक्ष श्रीमती कुमुद कच्छारा सहित सम्पूर्ण अभातेममं की टीम के साथ संकल्प रैली के रूप में पूज्य आचार्यप्रवर का मंगल पाठ श्रवण कर मंगल आशीर्वाद प्राप्त किया और श्रद्धा अर्पण करते हुए संकल्पों को ग्रहण किया ।
असाधारण महाश्रमणी साध्वी प्रमुखाश्री कनकप्रभाजी ने अधिवेशन के पूर्व अपने मंगल उद्बोधन में फरमाया कि आधी दुनिया का प्रतिनिधित्व करने वाली नारी शक्ति संकल्प की डोर से बंधकर परिवार, समाज ,संस्था का विकास करें ।
“संकल्पों का दौर -कदम सृजन की और” उद्घाटन सत्र का प्रारम्भ प्रेरणा गीत के साथ रा.का.स. के संकल्पित स्वरों के साथ हुआ । राष्ट्रीय अध्यक्षा कुमुदजी कच्छारा ने अधिवेशन के विधिवत उद्घाटन की घोषणा की । संरक्षिका श्रीमती तारा सुराणा ने सभी को संकल्पों की उपसम्पदा दिलवाई । तेरापंथ महिला मंडल , चेन्नई की अध्यक्षा श्रीमती कमला गेलडा ने सभी का स्वागत किया । श्रीमती कुमुद कच्छारा ने अध्यक्षीय आह्वान में योगक्षेम से संकल्प तक की यात्रा में सभी पूर्वाध्यक्षों के श्रम को याद किया । नेतृत्व के नए कैलेंडर के रूप में स्वयम् के लिए इसे संघ सेवा का एक सुनहरा मौका मानते हुए सभी के प्रति प्रमोद भावना व्यक्त की ।
महामंत्री ने उपलब्धियों के दर्पण में संस्था को मिले “क्रांति सम्मान” ,तीन तीन विश्व कीर्तिमान , फिजियोथेरेपी सेंटर ,कन्या सुरक्षा सर्किल आदि के बारे में बताया । बहनों के श्रम को नमन करते हुए कृतज्ञता ज्ञापित की । इस सत्र का संचालन श्रीमती रमण पटवारी ने किया ।
द्वितीय सत्र -साधारण सभा
राष्ट्रीय अध्यक्ष श्रीमती कुमुदजी कच्छारा की अध्यक्षता में 43वीं साधारण सभा का आयोजन किया गया , मंत्री प्रतिवेदन के रूप में उपलब्धियो के दस्तावेज को सदन के समक्ष प्रस्तुत किया गया । राष्ट्रीय कोषाध्यक्ष ने सन 2017 -2018 के आय व्यय का ब्यौरा दिया । ट्रस्टी श्रीमती कनक बरमेचा ने CNGP के द्वारा बहनों को संवैधानिक जानकारी दी । श्रीमती भाग्यश्री कच्छारा ने सुंदर संचालन किया ।
इस सत्र के दूसरे चरण में संस्थाओं की योजनाओं के अंतर्गत विशिष्ट कार्य करने वाले शाखा मंडलों को स्मृति चिन्ह देकर सम्मानित किया गया । जिसमें मुंबई शाखा को विशिष्टतम निमार्ण एक नन्हा क़दम स्वच्छता की ओर विशिष्ट ” Say no to plastic” , “विशिष्टतम फिजियोथेरेपी” व ” We Can ” रैली ,आयम्बिल अनुष्ठान में सराहनीय सहभागिता ,नारीलोक प्रश्नोत्तरी ,मासिक विचार ,तेरापंथदर्शन , तेरापंथ तत्वदर्शन ,जैन स्कॉलरशिप में श्रीमती निर्मलाजी नौलखा, श्रीमती विमलाजी डागलिया, श्रीमती इंद्राजी धींग व श्रीमती सुनिताजी चोपड़ा , इको फ्रेंडली दिवाली प्रचार प्रसार , स्वस्थ परिवार स्वस्थ समाज , सभी का अवार्ड व प्रमाण पत्र द्वारा सम्मानित किया गया । प्रतिभा पुरस्कार मुंबई से श्रीमती रश्मिजी बैद व श्रीमती मालाजी कातरेला को अखिल भारतीय महिला मंडल ने सम्मानित किया । मुंबई महिला मंडल द्वारा “कैसे बढ़े मौलिक चिंतन और निर्णायक क्षमता ” के पंचम सत्र में एम्पावरमेंट की शानदार प्रस्तुति दी गई । चैन्नई एक्सप्रेस ट्रैन द्वारा एम्पावरमेंट की हरी झंडी दिखाई । ABTMM न्यासी श्रीमती प्रकाशदेवी तातेड , राष्ट्रीय अध्यक्षा श्रीमती कुमुदजी कच्छारा ,प्रेमलताजी शिशोदिया , शांताजी पुगलिया , कांताजी तातेड , निर्मलाजी चंडालिया , विमलाजी नाहटा ,मुंबई महिला मंडल की अध्यक्षा श्रीमती जयश्रीजी बड़ाला , उपाध्यक्ष पिंकीजी कच्छारा , रचना जी हिरण , मंत्री श्वेता जी सुराणा ,सह मंत्री स्वीटी जी लोढ़ा ,गीतांजली बोथरा , कन्यामंडल प्रभारी मीनाजी कच्छारा , कार्यकारिणी सरोजजी सिघंवी ,सुमनजी मेहता , राजश्री डुगंरवाल, भावना वागरेचा ,अंजुजी कोठारी सभी ने महिलाओं बनें सशक्त पर शब्द चित्र प्रस्तुत किया।
षष्ठम् सत्र “जलती रहे संकल्पों की ज्योत” में मंगल आर्शिवाद परम पुज्य गुरुदेव से प्राप्त किया ।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Enable Google Transliteration.(To type in English, press Ctrl+g)