इलाहाबाद: राफेल विमान खरीद को लेकर भले ही केंद्र सरकार और विपक्ष के बीच रार मची हुई है, विपक्षी दल इसे घोटाला करार दे रहे हैं, लेकिन वायुसेना के वरिष्ठ अफसरों का मानना है कि इस खरीद से भारतीय वायुसेना की ताकत काफी बढ़ जाएगी। मध्य वायु कमान के एयर वाइस मार्शल राजेश इस्सर का मानना है कि राफेल विमान के आने से भारतीय वायु सेना एयरवार में चीन को हरा सकती है।
राफेल खरीद को बताया सटीक
मध्य वायु कमान में मीडिया से बातचीत में उन्होंने राफेल विमान खरीद को लेकर उठे सवालों के खुलकर जवाब दिए। कहा कि मौजूदा वक्त के लड़ाकू विमानों में एस-35 के बाद राफेल सबसे उत्कृष्ट विमान है, इसलिए इसकी खरीद वक्त की नजाकत थी। इससे भारतीय सेना को बहुत मजबूती मिली है। कांग्रेस समेत विपक्ष की ओर से राफेल खरीद को घोटाला बताने पर कहा कि वायुसेना की तरफ से यह खरीद बिल्कुल सही है। यूपीए सरकार के दौरान इस विमान के सस्ते में सौदा होने की बात पर उन्होंने कहा कि बातें उतनी सीधी नहीं हैं, जितनी कही जा रही हैं।
सर्जिकल स्‍ट्राइक में हम बेहतर
इस्‍सर बताया कि पूरे देश में पाकिस्तान पर थल सेना की ओर से हुई सर्जिकल स्ट्राइक के दिन को पराक्रम पर्व के रूप में मनाया जा रहा है। इलाहाबाद मध्य वायु कमान में भी इस मौके पर स्कूल के बच्चों के साथ यह पर्व मनाया जाएगा और इसका महत्व बताया जाएगा। एक सवाल के जवाब में बताया कि कारगिल युद्ध के दौरान वायुसेना ने ऊंचाई पर डटे दुश्मनों के खेमे पर सर्जिकल स्ट्राइक की थी, लेकिन वह भारतीय भूमि पर थे। किसी दूसरे देश में प्रवेश कर जिस तरह से सर्जिकल स्ट्राइक को अंजाम दिया गया था, वह भारतीय सेना की पहली सर्जिकल स्ट्राइक है। इतनी सटीक और सफल सर्जिकल स्ट्राइक इससे पहले केवल इजराइल ही कर पाता था।