जबरन तलाक से आहत युवती ने न्याय ना मिलने पर दी आत्महत्या की धमकी

0
36

राजकुमार गौतम/बस्ती। उत्तर प्रदेश के संतकबीरनगर जिले से एक युवती को जबरन तीन तलाक दिलवाने का मामला सामने आया है। बखिरा थाना क्षेत्र के अंतर्गत आने वाले नरायनपुर की एक युवती ने पुलिस अधीक्षक से मिलकर न्याय की गुहार लगाई है। तीन तलाक पीड़िता युवती हसीना खातून ने पुलिस अधीक्षक को दिए शिकायती पत्र में बताया है कि नारायनपुर का ही एक युवक अफलाक अहमद पुत्र एजाज अहमद पिछले 4 साल से शादी का झांसा देकर उसका शारीरिक शोषण कर रहा था। जब भी शादी की बात करती तो अफलाक कोई ना कोई बहाना बनाकर टाल देता था। इस दौरान युवती गर्भवती भी हो गई जिसके बाद अफलाक अहमद ने जबरन दवा खिलाकर उसका गर्भपात करवा दिया। अपनी जिंदगी बर्बाद होते देख युवती ने पुलिस की शरण ली और बखिरा थाने में तहरीर देकर इंसाफ की मांग की।
जानकारी के अनुसार, दिनांक 6 मार्च 2020 को बखिरा थाने में अफलाक अहमद ने हसीना से निकाह करना कुबूल किया और उसी दिन मुस्लिम रीति रिवाज से हसीना और अफलाक का निकाह होने के बाद दोनों अफलाक के घर रहने लगे। युवती हसीना का आरोप है कि शादी के बाद ससुर एजाज अहमद,चचेरे ससुर अब्दुल हक उर्फ बबलू, अफलाक तथा परिवार के अन्य सदस्यों द्वारा  उसे 5 लाख रुपये दहेज के लिए प्रताड़ित किया जाने लगा। हर वक़्त जातिसूचक गालियां देकर उसके साथ मार पीट किया जाने लगा। इस दौरान वो फिर से गर्भवती हो गई लेकिन उसके पति अफलाक अहमद ने जबरन दवा खिलाकर उसका गर्भपात करवा दिया।
दिनांक 30 मई 2020 को अब्दुल हक उर्फ बबलू, एज़ाज़ अहमद, रुस्तम,अफलाक और परिवार के अन्य सदस्यों ने पीड़िता और पीड़िता के परिजनों को जान से मारने की धमकी देते हुए जबरन स्टाम्प पेपर पर दस्तखत करवा लिया और पीड़िता को उसके ससुराल से निकाल दिया। पीड़िता के मायके वालों की आर्थिक स्थिति ठीक ना होने के कारण वो किसी भी तरह का विरोध ना कर सके। 2 जून को SP कार्यालय पहुचीं पीड़िता ने हर हाल में अफलाक के साथ ही रहने की इच्छा जाहिर की और ऐसा ना होने पर आत्महत्या की धमकी दी है। आपको बताते चलें कि इस तीन तलाक कांड का अगुआ अब्दुल हक उर्फ बबलू एक झोलाछाप डॉक्टर है,जिस पर CMO द्वारा पूर्व में कार्यवाही भी की जा चुकी है। लोगो की सेहत से खेलने वाला ये फर्जी डॉक्टर अब पीड़िता की जिंदगी से खेल रहा है और इस पूरे घटनाक्रम में मुख्य भूमिका निभा रहा है। सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार पीड़िता की मदद करने वालों को अफलाक अहमद जान से मारने की फिराक में है जिसके लिए उसने अवैध असलहा भी खरीद रखा है। इस पूरे घटनाक्रम की पुलिस को गहराई से पड़ताल करने की जरूरत है वरना किसी भी वक़्त कोई बड़ी घटना हो सकती है। पुलिस को त्वरित कार्यवाही करने की जरूरत है क्यों कि बस्ती जिले के वाल्टरगंज थाना अंतर्गत एक किशोरी ने अभी कुछ दिन पहले ही पुलिस की त्वरित कार्यवाही ना होने पर क्षुब्ध होकर आत्महत्या कर ली थी। अब देखना ये है कि एक फर्जी डॉक्टर और पीड़िता हसीना का पति तथा उसके परिजन कानून और सुप्रीम कोर्ट के निर्देश की धज्जियां उड़ाते हैं या फिर क़ानून का चाबुक उनको उनकी सही जगह दिखा पाने में कामयाब होता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here