यूथ हैण्डबाल चैंपियनशिप : ये हैं 16 लड़के जो जार्डन में खेलेंगे तिरंगे तले

0
33

लखनऊ:पूरे देश भर से 16 बेहद प्रतिभाशाली लड़के चुने गए हैं जो जार्डन में भारतीय तिरंगे तले मैदान में उतरेंगे। जॉर्डन में 16 से 26 सितम्बर तक होने वाली आठवीं यूथ एशियन चैंपियनशिप में हिस्सा लेने के लिए पूरे जोश के साथ लखनऊ से रवाना हुई। जकार्ता एशियाई खेल में भारतीय टीम कुछ कमाल न कर पाई। ऐसे में इस जूनियर टीम से सभी को बड़ी उम्मीदें हैं। टीम का कैम्प फैजाबाद में लगा था। बुधवार को टीम राजधानी पहुंची। यहीं टीम का एक विदाई समारोह हुआ।
समारोह में उत्तर प्रदेश हैण्डबाल एसोसिएशन के अध्यक्ष सुधीर एम. बोबडे, खेल निदेषक डा. आरपी सिंह,साई की एक्जीक्यूटिव डायरेक्टर रचना गोविल, हैण्डबाल फेडरेशन ऑफ इण्डिया के महासचिव आनंदेश्वर पाण्डेय ने खिलाड़ियों को वह किट प्रदान की जिसे पहनकर वे जॉर्डन में मैदान पर उतरेंगे। इस मौके पर कप्तान अमित कुमार ने पूरी टीम की तरफ वायदा कि वे अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करेंगे।
आनन्देश्वर पाण्डेय ने बताया कि 16 से 26 सितम्बर तक होने वाली होने वाली इस चैंपियनशिप की तैयारी के लिए 12 अगस्त से 11 सितम्बर तक भारतीय टीम का प्रशिक्षण शिविर फैजाबाद के भीम राव अंबेडकर स्टेडियम में भारतीय खेल प्राधिकरण की मदद से लगाया गया था।  ट्रैटाफ्लैक्स पर हुए इस शिविर में कड़े अभ्यास के बाद खिलाड़ियों के खेल तकनीकी, इंडयोरेंस, स्टेमिना व गति में आश्चर्यजनक सुधार हुआ जो निश्चित तौर पर चैंपियनशिप में फायदेमंद साबित होगा।
भारतीय टीम
टीम की घोषणा गुरुवार को लखनऊ में की गई। टीम का कप्तान अमित कुमार और उपकप्तान अमरमणि त्रिपाठी को चुना गया है। वहीं आईपीएस आरपी सिंह को दल नायक और विनय सिंह को मैनेजर नियुक्त किया गया है।
गोलकीपरः दिनेश (साई गुजरात), अमन मलिक (दिल्ली), अमरमणि त्रिपाठी (उत्तर प्रदेश)
राइट बैकः लोकेश अहलावत (साई दिल्ली), जसमीत सिंह (पंजाब),
सेंटर बैकः शशि शंकर मिश्रा (उत्तर प्रदेश), बिपल्ब विश्वाल (साई दिल्ली),
लेफ्ट बैकः मोहित (एनएचए), वकील (हरियाणा),
राइट विंगः अमित (एनएचए), सुमित (साई गुजरात),
पिवोटः शुभम (साई गुजरात), नदीम (झारखंड), लेफ्ट विंगः मिथुल (चंडीगढ़), मनीष कुमार त्रिपाठी (उत्तर प्रदेश), सुशांत सिंधु (दिल्ली)।
मुख्य कोचः श्रवण कुमार अरोड़ा (साई दिल्ली) , सहायक कोच: अरूण कुमार (मध्य प्रदेश)।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Enable Google Transliteration.(To type in English, press Ctrl+g)