पीवी सिंधु लगातार तीसरी बार वर्ल्ड चैम्पियनशिप के फाइनल में, चीन की यू फेई को हराया

0
13

बासेल:भारत की स्टार शटलर पीवी सिंधु स्विट्जरलैंड के बासेल में खेले जा रहे वर्ल्ड बैडमिंटन चैम्पियनशिप के फाइनल में पहुंंच गईं। पांचवीं सीड सिंधु ने सेमीफाइनल में चीन की चेन यू फेई को 21-7, 21-14 से हराया। सिंधु ने यह मुकाबला 40 मिनट में अपने नाम किया। वे लगातार तीसरी बार इस टूर्नामेंट के फाइनल में पहुंचीं। इससे पहले 2018 में उन्हें स्पेन की कैरोलिना मरीन और 2017 में जापान की नोजोमी ओकुहारा के खिलाफ खिताबी मुकाबले में हार का सामना करना पड़ा था।
रविवार को फाइनल में सिंधु का मुकाबला जापान की नोजोमी ओकुहारा के बीच होगा। सिंधु वर्ल्ड रैंकिंग में पांचवें और यू फेई तीसरे स्थान पर हैं। दोनों के बीच अब तक 9 मैच खेले गए। इनमें सिंधु ने 6 बार जीत दर्ज की। यू फेई को सिर्फ तीन मुकाबलों में सफलता मिली। सिंधु ने दोनों के बीच हुए पिछले मैच में भी जीत हासिल की थी।
फाइनल में स्टैमिना वाली खिलाड़ी जीतेगी, क्योंकि दोनों रैली एक्सपर्ट 
जूनियर एशियन चैम्पियनशिप के दौरान सिंधु के कोच रहे संजीब सचदेवा ने कहा- सेमीफाइनल में सिंधु शुरू से ही अटैकिंग थीं। यही उसकी ताकत है। उन्होंने यूफेई के खिलाफ भी ऐसा ही खेला। 5 फीट 11 इंच लंबी सिंधु ने अपनी हाइट का पूरा फायदा उठाया। उन्होंने क्रॉस कोर्ट स्मैश पर ज्यादा पॉइंट लिए। उन्होंने क्रॉस कोर्ट नेट पर भी बखूबी खेला और पॉइंट बनाए। सिंधु ने अटैकिंग खेल के साथ ही रैली में भी पॉइंट बनाए। उनका डिफेंस भी बेहतर रहा। सिंधु के रिटर्न काफी तेज थे। उनके शॉट में पावर का कमाल दिखा। पूरे मैच में वह काफी फिट नजर आई।
उन्होंने कहा,‘अंत तक ऐसा नहीं लगा कि वह थकी हुई हैं। वहीं चीनी खिलाड़ी का डिफेंस काफी कमजोर रहा, जिसका पूरा फायदा सिंधु ने उठाया। सिंधु ने यूफेई को छठी बार और चैंपियनशिप में दूसरी बार हराया। सिंधु वर्ल्ड चैंपियनशिप में किसी चीनी खिलाड़ी से कभी नहीं हारीं। उन्होंने 6 टूर्नामेंट में 9 बार चीनी खिलाड़ियों को हराया। उनका फाइनल 2017 की चैंपियन तीसरी सीड ओकुहारा से है। 5 फीट लंबी ओकुहारा का फुटवर्क अच्छा है। स्टेमिना तो सिंधु से भी बेहतर है। लंबी रैली के बाद भी वे थकती नहीं हैं। उनकी स्पीड और डिफेंस भी बहुत अच्छा है। वे कोर्ट के हर कोने पर शॉट खेलती हैं। जिस खिलाड़ी का स्टैमिना अच्छा होगा, वो जीतेगी।’
सिंधु ने क्वार्टरफाइनल में ताई यू यिंग को हराया था
सिंधु ने इससे पहले क्वार्टर फाइनल में दूसरी सीड ताइपे की ताई जू यिंग को 12-21, 23-21, 21-19 से हराया था। सिंधु 2018 और 2017 में रजत पदक जीती थीं। वहीं, 2013 और 2014 में कांस्य पदक से संतोष करना पड़ा था।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Enable Google Transliteration.(To type in English, press Ctrl+g)