“सौलह कलाओं से सुशोभित गुरु पूर्णिमा का चंद्रमा कालबादेवी

0
85

मुंबई। प्रांगण में गुरु पूर्णिमा की चांदनी में 260 वां तेरापंथ स्थापना दिवस मनाया गया। दक्षिण मुंबई तेरापंथ युवक परिषद के उपाध्यक्ष अशोक जी बरलोटा न प्रोग्राम का भिक्षु अष्टकम के द्वारा मंगलाचरण किया । शासन श्री साध्वी कैलाशवति जी ने जन मेदिनी को संबोधित करते हुए कहा आज गुरु पूर्णिमा है आज के दिन हमें गुरु मिले कंचन वे कामिनी के त्यागी वीर भिक्षु जिन्होंने तेरापंथ धर्म संघ की स्थापना की अनुशासन ,मर्यादा का साधुत्व के लिए संविधान का दस्तावेज लिखा। तेरापंथ धर्म संघ को शिख देने का श्रेय आचार्य भिक्षु की कुर्बानियां ही है। तेरापंथ धर्म संघ एक कल्पवृक्ष धर्म संघ है गुरु चिंतामणि ,कलपतरु है हर आशा पूर्ण करते हैं। साध्वी पंकज श्री ने कहा- भारतीय दर्शन में “गुरु का महत्व पुर्ण स्थान है । गुरु शिष्य को अध्यात्मिक उन्नति की राह दिखाते हैं। आज के दिन हमें भी कंचन व कामिनी के त्यागी महा मना “गुरु भीक्षु ” प्राप्त हुए जिन्होंने शंकर बनकर दुनिया के विश को पिकर अमृत का झरना बकसाया । तेरापंथ धर्म संघ की स्थापना का यह पावन पवित्र दिन आज अध्यात्म के सूर्य को लेकर उदित हुआ। भिक्षु स्वामी के सुमिरन से पाप संताप मिट जाते हैं। कमल की भांति निर्लिप्त रहने वाले वीर भिक्षु ने जो मार्ग दिया” है प्रभो! यह तेरापंथ”अर्थात प्रभु यह तेरा पंथ है हम तो इस पथ के राही हैं।
तेरापंथ की परिभाषा देते हुए साध्वी श्री ने कहा जो पांच महाव्रत ,पांच समितियां व तीन गुप्तियोंकी आराधना करता पालना करता है वह तेरापंथी कहलाता है।”गुरु पूर्णिमा “का यह पावन पर्व हमें आनंद की अनुभूति कराता है। दक्षिण महिला मंडल की संयोजिका उर्मिला कछारा एवं उनकी टीम ने “आरती”के द्वारा वंदना अर्पित की महिला मंडल की बहनों ने आलोकित नभ धरा दिगंत गीतिका प्रस्तुत की। शब्द चित्र एवं गीतिका की सुंदर प्रस्तुति दी गई महिला मंडल द्वारा। कन्या मंडल निधि बरलोटा ,वंशिका कछारा द्वारा परिसंवाद किया गया।
महाप्रज्ञ विद्यानिधि फाउंडेशन के अध्यक्ष किशनलाल जी डागलिया ने अपने विचार रखे । ते.यु.परिषद के अध्यक्ष पवन जी बोलिया ने विचार रखे। साध्वी शारदा प्रभा जी ने संयोजन करते हुए कहा”यह तन विष की बेलड़ी, गुरु अमृत की खान, शीश दिए जो गुरु मिले तो भी सस्ता जांच ” तेरापंथ युवक परिषद ने गीतिका प्रस्तुत की। मुंबई तेरापंथ सभा के प्रचार मंत्री नीतेश धाकड़ भी इस कार्यक्रम में उपस्थित रहें।
आचार्य महाप्रज्ञ विद्या निधि फाउंडेशन के अध्यक्ष किशनलाल डागलिया,कोषाध्यक्ष प्रकाश शिशोदिया, मनोज चोरडिया, प्यारचंद शिशोदिया,रमेश मेहता, कान्हैयालाल मेहता,धर्मचंद मेहता,सुखलाल सिंयाल, सुरेश डागलिया, तेरापंथ युवक परिषद के अध्यक्ष पवन बोलिया,उपाध्यक्ष नितेश धाकड़, अशोक बरलोटा,मंत्री राहुल मेहता,कोषाध्यक्ष अशोक धींग, किशन राठौड़, दीपक सुराणा, देवेंद्र डागलिया, पंकज बोलिया, भूपेंद्र धाकड़,महिला मंडल संयोजिका उर्मिला कच्छारा, रुक्मण कच्छारा, सुमन कावड़िया,रेणु बोलिया, सह संयोजिका ,पूजा राठौड़, नूतन सोनी, रेखा बरलोटा, नीमा धाकड़, कविता ओस्तवाल, गुंजन सुराणा ,पुष्पा कच्छारा,शीतल डागलिया,राजश्री कच्छारा, रेणु बोलिया, हीना धाकड़, आदि उपस्थित थे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Enable Google Transliteration.(To type in English, press Ctrl+g)