डिप्टी गवर्नर विरल आचार्य ने कार्यकाल पूरा होने से 6 महीने पहले इस्तीफा दिया

0
26

मुंबई: आरबीआई के डिप्टी गवर्नर विरल आचार्य (45) ने कार्यकाल पूरा होने से 6 महीने पहले इस्तीफा दे दिया है। उन्होंने इसकी वजह निजी बताई है। सोमवार को यह जानकारी सामने आई। आरबीआई का कहना है कि कुछ हफ्ते पहले आचार्य का पत्र मिला था। उसमें कहा गया था कि अपरिहार्य निजी कारणों से 23 जुलाई के बाद डिप्टी गवर्नर के पद पर रहना संभव नहीं होगा। आचार्य के पत्र पर विचार किया जा रहा है।

आरबीआई का प्रेस रिलीज।

जनवरी 2020 तक था कार्यकाल

आचार्य 23 जनवरी 2017 को रिजर्व बैंक के डिप्टी गवर्नर बने थे। वे आरबीआई की फाइनेंशियल स्टेबिलिटी यूनिट, मॉनेटरी पॉलिसी डिपार्टमेंट, डिपार्टमेंट ऑफ इकोनॉमिक एंड पॉलिसी रिसर्च, फाइनेंशियल मार्केट ऑपरेशन डिपार्टमेंट और फाइनेंशियल मार्केट रेग्युलेशन डिपार्टमेंट के इन्चार्ज भी हैं। डिप्टी गवर्नर के पद पर 3 साल का कार्यकाल जनवरी 2020 में पूरा होना था। पिछले साल उन्होंने केंद्रीय बैंक की स्वायत्ता का मुद्दा उठाया था।

6 महीने में दूसरा बड़ा इस्तीफा

अक्टूबर 2018 में एक भाषण के दौरान आचार्य ने कहा था कि जो सरकार केंद्रीय बैंक की स्वायत्तता से समझौता करती है उसे बाजार की नाराजगी झेलनी पड़ती है। उस बयान के बाद सरकार और आरबीआई के बीच विवाद खुलकर सामने आ गया था। सरकार से विवादों के चलते 10 दिसंबर 2018 को उर्जित पटेल ने गवर्नर पद से इस्तीफा दे दिया था। उनका कार्यकाल पूरा होने में भी 9 महीने बाकी थे।

आचार्य फिर से एकेडमिक फील्ड में जाएंगे

आचार्य आर्थिक उदारीकरण के बाद आरबीआई के सबसे युवा डिप्टी गवर्नर हैं। देश में 1991 में आर्थिक उदारीकरण की नीतियां शुरू हुई थीं। वे अगस्त में न्यूयॉर्क यूनिवर्सिटी में टीचिंग से जुड़ेंगे। रिजर्व बैंक से जुड़ने से पहले भी वे न्यूयॉर्क यूनिवर्सिटी में इकोनॉमिक्स के प्रोफेसर थे। उनका परिवार भी अमेरिका में है। आचार्य ने 1995 में आईआईटी मुंबई से कंप्यूटर टेक्नोलॉजी में ग्रेजुएशन की थी। न्यूयॉर्क यूनिवर्सिटी में प्रोफेसर के पद पर रहने से पहले 7 साल लंदन बिजनेस स्कूल (एलबीएस) में थे। वे एलबीएस के कॉलर इंस्टीट्यूट ऑफ प्राइवेट इक्विटी के एकेडमिक डायरेक्टर भी रहे थे। वहीं से उन्होंने बैंक्स एंड फाइनेंशियल इंस्टीट्यूशंस पर पीएचडी की थी।

पटेल के इस्तीफे के बाद से असहज थे: रिपोर्ट

उर्जित पटेल के इस्तीफे के बाद यह अटकलें भी लगी थीं कि आचार्य ने भी इस्तीफा दे दिया है। हालांकि, आरबीआई ने उन खबरों का खंडन किया था। लेकिन, 6 महीने बाद आचार्य ने आखिर इस्तीफा दे ही दिया। बताया जा रहा है कि वे पटेल के इस्तीफे के बाद से असहज महसूस कर रहे थे। शक्तिकांत दास के गवर्नर बनने के बाद आरबीआई इस साल रेपो रेट में 3 बार कटौती कर चुका है। इनमें से 2 बार आचार्य रेट कट के पक्ष में नहीं थे।

आचार्य ने कहा था- मैं गरीबों का रघुराम राजन हूं
विरल आचार्य ने जब आरबीआई के डिप्टी गवर्नर का पद संभाला था उस वक्त नोटबंदी के बाद का दौर था और जमा एवं निकासी के नियमों में बार-बार बदलाव को लेकर आरबीआई की निंदा हो रही थी। आचार्य आरबीआई के पूर्व गवनर्र रघुराम राजन की नीतियों के समर्थक हैं। वे राजन के साथ फाइनेंशियल और बैंकिंग सेक्टर से जुड़े रिसर्च पेपर और रिपोर्टों में को-ऑथर भी रहे हैं। उन्होंने एक बार खुद को गरीबों का रघुराम राजन भी कहा था।

एन एस विश्वनाथन का कार्यकाल बढ़ाया जा सकता है
आचार्य के इस्तीफे के बाद रिजर्व बैंक में तीन डिप्टी गवर्नर- एन एस विश्वनाथन, बी पी कानूनगो और एम के जैन बचे हैं। विश्वनाथन का कार्यकाल जुलाई के पहले हफ्ते में पूरा हो रहा है। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक उनका कार्यकाल 2 साल और बढ़ाया जा सकता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Enable Google Transliteration.(To type in English, press Ctrl+g)