जसप्रीत बुमराह का खास ऐक्शन उनकी पीठ के लिए खतरा

0
8

नई दिल्ली:शरीर क्रिया विज्ञान के लेक्चरर डॉ. साइमन फेरोस को लगता है कि जसप्रीत बुमराह का गेंदबाजी ऐक्शन जिस तरह का है, उससे उनके पीठ के निचले हिस्से में चोट की संभावना बढ़ सकती है। फेरोस और मशहूर फिजियो जॉन ग्लोस्टर ऑस्ट्रेलिया के विक्टोरिया में डिकिन यूनिवर्सिटी के खेल विभाग का हिस्सा हैं, जिन्होंने इस भारतीय तेज गेंदबाज के गेंदबाजी ऐक्शन का अध्ययन किया। दुनिया में खेल विज्ञान स्कूल में तीसरी रैंकिंग पर काबिज डिकिन यूनवर्सिटी का व्यायाम एवं पोषण विज्ञान स्कूल अपने क्षेत्र में शीर्ष पर है।
फेरोस ने कहा, ‘बुमराह फ्रंट फुट की लाइन के बाहर गेंद को रिलीज करते हैं। इसका मतलब है कि वह गेंद को ‘पुश’ कर सकते हैं, आमतौर पर वह इससे दाएं हाथ के बल्लेबाज को बेहतरीन इन स्विंग गेंद फेंकते हैं।’ उन्होंने कहा, ‘हालांकि, अगर वह 45 डिग्री से ज्यादा मोड़ते हैं (जो मुझे लगता है कि वह कुछ मौकों पर ऐसा करता है) तो उनके ऐक्शन से उन्हें मेरुदंड के निचले हिस्से में कुछ चोटों की समस्याएं हो सकती हैं। ’
अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट जगत में से कई को लगता है कि बुमराह का लंबे समय तक बिना चोटिल हुए बिना रहना मुश्किल होगा। हालांकि फेरोस और ग्लोस्टर ने कुछ सकारात्मक चीजें भी बताईं। फेरोस ने कहा, ‘मेरुदंड के निचले हिस्से और कंधे के ऐक्शन के साथ उनके गेंद फेंकने के ऐक्शन को देखते हुए बुमराह का ऐक्शन सुरक्षित लगता है। इससे उनकी रीढ़ की हड्डी पर अतिरिक्त दबाव नहीं पड़ता।’
ग्लोस्टर ने कहा, ‘उनका अनोखा ऐक्शन उन्हें लगातार उस तरह की गेंद फेंकने में मदद करता है, विशेषकर यॉर्कर। लसिथ मलिंगा के इतने प्रभावी होने की काबिलियत उनके अनोखे ऐक्शन की वजह से भी थी (जिससे उनकी कभी कभी गेंद को खेलना मुश्किल हो जाता)।’ ग्लोस्टर ने बुमराह के ऐक्शन के अपने आकलन में कहा कि उनका शरीर एक ‘बेहतरीन मशीन’ है और साथ ही उन्होंने उनके कोचों की प्रशंसा भी की, जिन्होंने उनके ऐक्शन में छेड़छाड़ करने की कोशिश नहीं की। ग्लोस्टर अंतरराष्ट्रीय क्रिकेटर में पिछले 17 वर्षों से काम कर रहे हैं और साढ़े तीन साल तक भारतीय टीम के फिजियो भी रहे थे।
मुख्य फिजियो के तौर पर करीब 55 अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट दौरों व सीरीज में शामिल ग्लोस्टर ने कहा, ‘बुमराह ने अपने ऐक्शन में मदद के लिए लिए अब तक मजबूती से मांसपेशियों पर इस तरह का नियंत्रण बना लिया है और वह इसमें इतना स्थिर हो गया है। उनका शरीर बेहतरीन मशीन है और समय के साथ वह इसमें अनुकूलित हो जाएगा, जिसमें लगातार इतनी तेज रफ्तार से सटीक गेंदबाजी करना शामिल रहेगा जो देखने में अनोखा गेंदबाजी ऐक्शन लगता है।’
उन्होंने कहा, ‘उनकी गेंदबाजी के विश्व क्रिकेट में इतने प्रभाव को देखते हुए मुझे लगता है कि उनके पूर्व कोचों की प्रशंसा की जानी चाहिए कि उन्होंने उसे ‘परफेक्ट ऐक्शन’ गेंदबाज बनाने के लिए उसके गेंदबाजी ऐक्शन में कोई बदलाव नहीं किया।’

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Enable Google Transliteration.(To type in English, press Ctrl+g)