फिल्मः इन्ड काउन्टर (2 स्टार)

0
22

प्रशांत नारायण अभिनीत आलोक श्रीवास्तव की फ़िल्म ‘ इन्ड काउंटर ‘ दर्शकों को टिकीट काउंटर तक लाने में कामयाब हो पाएगी इसमें संशय है। फ़िल्म की कहानी एक ऐसे पुलिस ऑफिसर की है जो बड़े बिल्डर्स और भू माफिया से दोस्ती रखता है और उनके गुनाह में शामिल है।
नासिक शहर में क्राइम ब्रांच का सीनियर इंसपेक्टर समीर देशमुख (प्रशांत नारायण) और बिल्डर बनाम डॉन दत्ता सालवी (अभिमन्यु सिंह ) बचपन के दोस्त हैं । दोनों साथ में मिलकर अवैध तरीके से बिजनेस करते हैं । समीर रेणु से प्यार करता है और उसके साथ लिव इन में रहता है रेणु एक लेखिका है और समीर की वास्तविकता से अनजान है । एक जमीन के मामले में समीर शहर के एक नामी बिल्डर मखीजा का इनकाउंटर कर देता है और भूखण्ड का एक हिस्सा अपने नाम कर लेता है । इसी जमीन पर गुरुजी उर्फ विशंभर दयाल शर्मा ( अनुपम श्याम ) जो कि धर्म गुरु बनकर अवैध धंधे में लिप्त है , उसकी भी नज़र रहती है वह दत्ता को समझाकर जमीन लेना चाहता है पर समीर नहीं मानता है । दूसरी तरफ रेणु का एक्स पति उसको परेशान करता है , समीर को यह बात अच्छी नहीं लगती और वो इस बात को अपने तरीके से सुधारना चाहता है । इधर रेणु को समीर की सच्चाई पता चलती है वह उसे बुरे काम छोड़ कर कर्तव्यनिष्ट पुलिस की तरह काम करने को कहती है , समीर उसकी बात मानकर अपने दोस्त दत्ता से अलग हो जाता है । इस पूरे मामले की जानकारी मिलते ही गुरुजी रेणु के एक्स पति को मरवा देता है और सारा इल्जाम समीर पर डाल देता है मखीजा मर्डर फ़ाइल भी खुलवा देता है । इससे समीर और दत्ता की दोस्ती में दरार आ जाती है । पर दत्ता खुद पर लगे इल्जाम को हटाने के लिए रेणु के पति के कातिल राजू हटेला (व्रजेश हिरजी) को पुलिस के हवाले कर देता है और गुरुजी का षडयंत्र सभी के समझ में आ जाता है।
सभी मंझे कलाकार होते हुए भी यह फ़िल्म दर्शकों को प्रभावित करने सफल नहीं हो पाती । संगीत साधारण है , निर्देशन भी साधारण स्तर का है जो फ़िल्म की कहानी को सही तरह से प्रदर्शित नहीं कर पाया । कई स्थान पर कहानी में भटकाव नज़र आता है।
एहसान कुरैशी की एक जैसी कॉमेडी को देखकर दर्शक बोर होने से नही बच पाएंगे। कुल मिलाकर इन्ड काउंटर एक धीमी गति वाली नीरस फ़िल्म बन पड़ी है , इससे बढ़िया तो टीवी पर सावधान इंडिया और क्राइम पेट्रोल देखकर रोमांच महसूस किया जा सकता है।
– गायत्री साहू

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Enable Google Transliteration.(To type in English, press Ctrl+g)