आर्ट-कल्चर के लिए पाकिस्तान का रास्ता खुला होना चाहिए: जावेद अख्तर

0
7

मुंबई: पाकिस्तान के प्रधान न्यायाधीश साकिब निसार ने कहा कि उच्चतम न्यायालय पाकिस्तानी टीवी चैनलों पर भारतीय कार्यक्रम दिखाने की अनुमति नहीं देगा, क्योंकि भारतीय कार्यक्रम पाकिस्तानी संस्कृति को नुकसान पंहुचाते हैं। न्यायाधीश के इस बयान पर बॉलिवुड के गीतकार जावेद अख्तर, अभिनेत्री नीना गुप्ता, दिव्या दत्ता और इला अरुण ने जवाब दिया है।
जावेद अख्तर ने कहा, ‘यह सब गलत बातें हैं, ऐसा बैन न पाकिस्तान की तरफ से होना चाहिए, न ही भारत की ओर से। वहां के अच्छे टीवी शो यहां टेलीकास्ट होने चाहिए और हमारे अच्छी प्रोग्राम वहां दिखाए जाने चाहिए। इस तरह कौन सा कल्चर डैमेज हो सकता है, न हमारा कल्चर डैमेज होगा, न उनका। यह सब कहने वाली बातें होती हैं किसी का कोई कल्चर डैमेज नहीं होता, यहां पर गुलाम अली को गाने नहीं देते, आज तक लता मंगेशकर वहां नहीं गईं और यहां पर पाकिस्तानी आर्टिस्टों के खिलाफ बहुत सारे लोग बात करते हैं। यह गलत है, जहां आर्ट और कल्चर का ताल्लुक हो पूरा रास्ता खुला होना चाहिए।’
पिछले साल ‘बधाई हो’, ‘मुल्क’ और ‘वीरे दी वेडिंग’ जैसी फिल्मों में अपनी ऐक्टिंग का लोहा मनवाने वाली नीना गुप्ता ने पाकिस्तान द्वारा भारतीय कॉन्टेंट पर लगे प्रतिबंध पर कहा, ‘प्रतिबंध वगैरह कुछ नहीं होता है, यह सब कुछ राजनीति से प्रेरित होता है। आम जनता को कोई फर्क नहीं पड़ता, जिसे जो देखना है, वह देखता है और इसमें कोई हर्जा भी नहीं है। कल्चर क्या होता है? कल्चर आप-हम होते हैं, कल्चर का मतलब कुछ अलग सा उन्हें समझ नहीं आता है।’
सिंगर और अभिनेत्री इला अरुण ने कहा, ‘फ्रीडम ऑफ एक्सप्रेशन, फ्रीडम ऑफ स्पीच सबसे अहम है, चाहे वह कोई भी देश हो। अगर फ्रीडम ऑफ एक्सप्रेशन पर पाबंदी लगाई जाती है, रोक-टोक की जाती है, तो यह बात बिल्कुल गलत है, यह सही नहीं है।’
दिव्या दत्ता ने कहा, ‘आर्ट और कल्चर सीमा में नहीं बंधे हैं और उन्हें सीमा में बांधना भी नहीं चाहिए… कई बार ऐसा होता है कि हमें उस देश के कुछ कार्यक्रम, सीरियल्स पसंद है और वहां के लोगों को हमारे देश के कार्यक्रम पसंद आते हैं, ऐसे में इस तरह की रोक बिल्कुल सही नहीं है। आर्ट और कल्चर तो सांस्कृतिक धरोहर है, यह सही नहीं है, इन्हें बांधना नहीं चाहिए।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Enable Google Transliteration.(To type in English, press Ctrl+g)