कन्यामण्डल के रियलिटी शो just 3 days का आगाज

0

मुंबई। बुधवार को कांदिवली तेरापंथ भवन में मुंबई महिला मंडल के तत्वावधान में मुंबई कन्यामण्डल एक विशेष रियालिटी शो ” just 3 days का भव्य आयोजन हुआ। इस आयोजन का मुख्य उद्देश्य त्रिदिवसीय आवास में विभिन्न रचनात्मक , भावनात्मक , व व्यक्तित्व विकास के कार्यो में प्रशिक्षण प्राप्त कर अपने आध्यात्मिक आयाम को कैसे प्राप्त करना है। सामुहिक रूप से नमस्कार महामंत्रोचार द्वारा कार्यक्रम की शुरुवात हुई। मंगलाचरण गीतिका का संगान कन्यामण्डल की संयोजिका एवं प्रभारी बहनों ने किया। मुंबई कन्यामण्डल सह प्रभारी प्रिति बोथरा ने स्वागत भाषण की प्रस्तुति दी।
अखिल भारतीय तेरापन्थ महिला मंडल राष्ट्रीय अध्यक्षा कुमुद कच्छारा ने कहा – हमारा उज्ज्वल भविष्य है , हमारी बेटियाँ मुंबई महिला मंडल ने ये जो नया कॉन्सेप्ट लेकर आया है। मुंबई हमेशा कुछ नया करता है। सभी की निगाहें मुंबई पर होती है, की मुंबई में क्या हो रहा है। अपने जीवन में चरित्र को सवारना है। वास्तव में तीन दिन में आप लोगों को सोचना है, की हमे कैसे आगे बढ़ना है। यहां से आप लोगों जो कुछ सीखकर जायेगी। वह भविष्य में आप लोगो मे जरूर काम आएगी। मीना कच्छारा ने कन्याओं को आधुनिकता और सांस्कृतिक मूल्यों का विकास एवं सामंजस्य कैसे बिठाए इस पर प्रेरणा दी।
मुंबई महिलामण्डल अध्यक्षा जयश्री बड़ाला ने कहा इन तीन दिनों में जिंदगी जीने का तरीका सीखना है। हमे अपने जीवन मे किस चीज को जोड़ना है, किस चीज को बढ़ना है, किस चीज को हटाना है । यह हम लोगों पर निर्भर होता है। आप लोगों के लिए यह तीन दिन का शिविर आप के जीवन मे नए आयाम लेकर आये। आप सभी अपने सपनो को साकार करें ।
तरुणा बोहरा ने कहा मुंबई कन्यामण्डल आप लोगों के लिए जीवन के अहम पहलू को प्रैक्टिकल रूप में आप लोगो के समक्ष लेकर आया है। आप सभी को जीवन मे एक महत्वपूर्ण बात का ध्यान रखना है, की माता- पिता, भाई – बहन, दोस्तों से मैत्री भावना बनाये रखें। किसी को कभी शत्रु बनने का मौका मत दिजिए।
मुंबई सभा अध्यक्ष नरेंद्र तातेड़ ने कहा आप लोगो मे पारिवारिक रिश्तों में सौहार्द हो लोगों के बीच सामंजस्य हो। ताकि भविष्य में हमारी बेटियों को पारिवारिक रिश्तों में कोई कठिनाई न हो। अपने जिंदगी को आसान बना सके। महिला मंडल के इस प्रयास की सराहना करता हू।
तुलसी महाप्रज्ञ फाउंडेशन के अध्यक्ष सुरेंद्र कोठारी ने कहा समय की सार्थकता को समझते हुए। सभी चीजों का विश्लेषण होना चाहिए। इन तीन दिनों में आप सभी को प्रायोगिक रूप में जीवन जीने की कला सिखाई जायेगी। आप सभी यहां से कुछ ऐसा सीखकर जायेगी। तब आप लोगो को दो कुलो की लाज रखना है। हर एक के साथ कैसे समन्वय बिठाना है। यह सीखकर अपने भविष्य को उज्ज्वल बना ही आपका लक्ष्य होना चाहिए। इस अवसर पर अखिल भारतीय तेरापन्थ महिला भाग्यश्री कच्छारा, पूर्व महिला मण्डल अध्यक्षा भारती सेठिया,मुंबई महिला मंडल मंत्री श्वेता सुराणा, कोषाध्यक्ष अंजु बफना, रचना हिरण, कन्यामण्डल सह प्रभारी मीना कच्छारा, सह प्रभारी प्रति बोथरा, कांदिवली संयोजिका सुशीला मादरेचा, मालाड संयोजिका गोमती मेहता, मुंबई सभा मंत्री विजय पटवारी, जयचंद सांखला, कांदिवली तेयुप मंत्री अशोक कोठारी, मयंक धाकड़, हर्ष कोठारी, क्षेत्रीय कन्यामण्डल प्रभारी, पूनम परमार, सुनीता धाकड़, मीनाक्षी परमार, जुली मेहता, मंजू बड़ाला, प्रेमा धोका, ललिता हिरण, प्रिति आँचलिया, कन्यामण्डल संयोजिका मानसी वागरेचा, सह संयोजिका ध्रुवी मादरेचा, सह संयोजिका दीपांशी धोका, रिया चोरडिया, सलोनी मादरेचा, पायल सियाल, दिव्या भंडारी, सेजल नाहर, हिनल बफना, किंजल मेहता, शिखा मेहता, भारती धाकड़, श्रेया चपलोत की उपस्थिति रही। मंच का कुशल संचालन कन्यामण्डल संयोजिका मानसी वागरेचा एवं पिंकी सांखला ने किया । आभार ज्ञापन आशा बफना ने किया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Enable Google Transliteration.(To type in English, press Ctrl+g)